अंतरराष्ट्रीय दलालों रियल्टी

अनुशंसित: सबसे अच्छा CFD BROKER

IRCTC, Indian Railway Train emergency facility: यात्रियों की सुरक्षा के लिए आरपीएफ के जवान चलती ट्रेन में मौजूद रहते हैं। वहीं, किसी तरह की वारदात होने पर स्टेशन पर मौजूद जीआरपी थाने में प्राथमिकी दर्ज की जाती है।

Barkha vir | No. 1 Indian Media News Portal

ऐसे प्रभावशाली लोगों को सजा दिलाने के लिए जांच का निष्पक्ष होना जरूरी है। यह काम अकेले दिल्ली पुलिस या सीबीआइ पर नहीं छोड़ा जा सकता। देश की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआइ की साख पर आए दिन अंगुली उठती है। घोटालों में लिप्त अनेक आरोपियों की सीबीआइ के पूर्व प्रमुख रंजीत सिन्हा के आवास पर आवाजाही का खुलासा होने के बाद इस एजेंसी की रही-सही इज्जत मिट््टी में मिल चुकी है। ऐसे में सर्वोच्च न्यायालय ही एकमात्र विकल्प बचता है। उसकी निगरानी में जांच होने पर ही सच्चाई की तह तक पहुंच कर अपराधियों को सजा दिलाना संभव है। साथ ही औद्योगिक घरानों की गैर-कानूनी हरकतों पर अंकुश लगाने के लिए संसद को तुरंत एक कड़ा कानून बनाना चाहिए।

Jansatta Editorial Satta ke Durg Main Punji ki Sendh

जरा राडिया टेप कांड को याद कीजिए, जिससे कई सनसनीखेज खुलासे हुए थे। जनता को भनक मिली थी कि बड़े-बड़े औद्योगिक घराने किस प्रकार सरकारी फैसलों को प्रभावित करते हैं, मंत्रियों और आला अफसरों की नियुक्ति में कैसे दखल देते हैं। इन टेपों में एक जगह देश के एक नामी उद्योगपति ने कांग्रेस की तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार को अपनी दुकान बताया था। पेट्रोलियम मंत्रालय और वित्त मंत्रालय से अति महत्त्वपूर्ण गोपनीय दस्तावेजों की चोरी का ताजा मामला प्रकाश में आने के बाद लगता है कि कांग्रेस नहीं, हर सरकार उद्योगपतियों की दुकान है। इन मामले में अब तक दर्जनों गिरफ्तारियां हो चुकी हैं और कई और लोग पुलिस के निशाने पर हैं।

MEDIA YUG: 2007

shall not be liable in any manner (whether in law, contract, tort, by negligence, productsliability or otherwise) for any losses, injury or damage (whether direct or indirect, special, incidental orconsequential) suffered by such person as a result of anyone applying the information (or any othercontents) in these articles or making any investment decision on the basis of such information (or anysuch contents), or otherwise. The users should exercise due caution and/or seek independent advicebefore they make any decision or take any action on the basis of such information or other contents.

आनंद विहार टर्मिनल से ही गया के लिए दूसरी स्पेशल ट्रेन 77 अक्टूबर से चलेगी और यह गाजियाबाद, कानपुर, इलाहाबाद, पं दीन दयाल उपाध्याय जंक्शन, भभुआ रोड, सासाराम और डेहरी ऑन सोन स्टॉप पर रुकेगी।

Special Trains for passengers amid Holi vacations news and updates: होली पर मोदी सरकार चलाएगी स्पेशल ट्रेनों का 8766 जोड़ा 8767 , चेक करें रूट और फेरों के डिटेल्स यहां

जिन स्टेशनों को विकसित किया जाना हैं उनमें लोनावाला, वाराणसी सिटी, पुणे, मथुरा, पटना, हावड़ा, इलाहाबाद, उदयपुर, बीकानेर, वारंगल, दिल्ली मेन, अंबाला, रायपुर, अहमदाबाद और मैसूर शामिल हैं।

एक उदाहरण से इस बात को बेहतर समझा जा सकता है। डीजल के मूल्य में एक रुपए के अंतर से निजी पेट्रोलियम कंपनी को पांच से छह हजार करोड़ रुपए का घाटा या मुनाफा हो जाता है। प्राकृतिक गैस की कीमत अगर एक डॉलर बढ़ जाए तो उनकी कमाई में आठ से दस हजार करोड़ रुपए का छप्परफाड़ इजाफा हो जाता है। मूल्य निर्धारण का निर्णय सरकार करती है और ऐसे फैसलों को प्रभावित करने या घोषणा से पहले उनकी जानकारी जुटा लेने से प्राइवेट कंपनियों की बैलेंस शीट की सूरत बदल जाती है। कुछ उद्योग आसमान पर पहुंच जाते हैं और कुछ जमीन चाटने लगते हैं। सरकारी फैसलों से कंपनियों के शेयर भी ऊपर-नीचे होते हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय से कागजात-चोरी के आरोप में जिस दिन रिलायंस इंडस्ट्रीज का अधिकारी गिरफ्तार हुआ उस दिन बाजार में कंपनी का शेयर तीन प्रतिशत गोता खा गया। मतलब यह कि इस एक गिरफ्तारी से रिलायंस को करोड़ों रुपए की चपत लगी।

Indian Railway: होली मनाकर अपने घरों से लौट रहे लोगों को ट्रेनों में कंफर्म टिकट नहीं मिल रहा है। कई होली-स्पेशल ट्रेन चलाने के बावजूद लोग सीट के लिए मारे-मारे फिर रहे हैं।

प्राकृतिक गैस मूल्यवृद्धि का मुद्दा पिछले वर्ष लोकसभा चुनाव के दौरान खूब उछला था। आरोप लगा था कि रिलायंस समूह को पांच खरब रुपए का फायदा पहुंचाने के लिए ही सरकार ने गैस की कीमत दो गुना करने का निर्णय किया है। इस मुद््दे पर मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल दोफाड़ हो गया था। भाकपा के सांसद गुरुदास दासगुप्त ने तत्कालीन प्रधानमंत्री को कई पत्र लिख कर मूल्यवृद्धि का भारी विरोध किया था। जवाब न मिलने पर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने भी कांग्रेस और भाजपा को चिट्ठी लिख तीखे सवाल पूछे थे, जिनका जवाब आज तक नहीं मिला है।

इन मामलों में छनकर बाहर आ रहे तथ्यों से पता चलता है कि हमारे देश में ‘क्रोनी कैपिटलिज्म’ की जड़ें कितनी गहरी हो चुकी हैं। पुलिस के अनुसार, पेट्रोलियम मंत्रालय से हुई चोरी के मामले में गिरफ्तार आरोपियों से बरामद कागजात में प्रधानमंत्री के मुख्य सचिव नृपेन मिश्र का पत्र और वित्तमंत्री अरुण जेटली के प्रस्तावित बजट भाषण का अंश भी शामिल है। साथ ही हाइड्रोकार्बन पर कैग रिपोर्ट, तेल मंत्रालय के खोज-प्रकोष्ठ के दस्तावेज और पेट्रोलियम योजना एवं विश्लेषण-प्रकोष्ठ की रिपोर्ट भी आरोपियों के पास से मिली हैं। सारे कागजात अति महत्त्वपूर्ण नीतिगत निर्णयों से जुड़े हैं।

क्रिप्टोकरेंसी में स्टार्ट ट्रेडिंग

एक टिप्पणी छोड़ें