स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के अलग अलग तरीके - Share Market

सेकंड ट्रेडिंग और मार्केट डिवीजन

सेकंड ट्रेडिंग और मार्केट डिवीजन

अनुशंसित: सबसे अच्छा CFD BROKER

तो इस तरह.अगर आप देखे तो  स्टॉक मार्केट से लाभ (प्रॉफिट)  कमाने के बहुत सारे अलग अलग तरीके है .जरूरत है आप स्टॉक मार्केट से लाभ कमाने के इन अलग लग तरीको के बारे में सीखे और समझे, और फिर और इन अलग अलग तरीको से पैसे कमाये

एल्गो ट्रेडिंग: माइक्रो सेकंड में सौदे, कम्प्यूटर बने ब्रोकर

scalping ट्रेडिंग भी इंट्रा डे ट्रेडिंग का ही पार्ट है .और इसमें जो ट्रेडर होता है जिसे हम scalper कहते है वो कुछ सेकंड या फिर कुछ सेकंड्स या मिनट में , भाव बढ़ने या घटने पर एक बड़ी quantity में शेयर को buy और sell करता है.और लाभ कमाने की कोशिस करता है ,

Algo Trading Basics in Hindi | एल्गो ट्रेडिंग का आधार

जैसे – जनवरी 65 को शेयर ख़रीदा और जनवरी 75 को बेच दिया और फिर जनवरी 77 को शेयर ख़रीदा और उसे फरवरी 65 को बेच दिया

भारत में सर्वश्रेष्ठ एल्गो ट्रेडिंग प्लेटफार्म | Top Algo

पोजीशनल ट्रेडिंग एक महीने से लेकर 67 महीने तक का हो सकता है इसे शोर्ट टर्म इन्वेस्टिंग भी कहा जाता है..

दोस्तों शेयर मार्केट भी ऐसे ही काम करता है. हर कंपनी के शेयर के लिए हर सेकंड हजारों ऑर्डर किए जाते हैं. जब आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हैं तो आप उसे या तो मार्केट रेट से खरीद सकते हैं या अपने डीमैट अकाउंट से अपने मनचाहे रेट पर ऑर्डर बुक कर सकते हैं. अगर आप मार्केट रेट से अधिक रेट पर ऑर्डर बुक करते हैं और अगर कोई सेलर आपके रेट पर शेयर को बेचने के लिए आर्डर लगाता है, तो उसके शेयर आपके रेट पर आपको मिल जाते हैं.लेकिन उससे मार्केट का शेयर का रेट भी बढ़कर आपके लगाए हुए रेट जितना हो जाता है. हर कंपनी के शेयर हर सेकंड अलग-अलग रेट पर खरीदे और बेचे जाते हैं और आपको दिखने वाला रेट वह प्राइस होता है price होता है जिस price पर आखिरी खरीदी और बिक्री (transaction) हुई होती है.

जैसे – recently INDIA BULLS रियल ESTATE LTD ने अपने 5 करोड़ शेयर 655 रूपये के भाव से BUYBACK करने का फैसला लिया था

स्लैपर, या व्यापारियों जो व्यापारियों के बोली और भेंट में बदलाव के आधार पर व्यापार करते हैं, स्तर II डेटा का उपयोग करते हैं, जो बोली और ऑफर के कई स्तर प्रदान करता है

और छोटे अमाउंट से शुरुआत करे प्रैक्टिकल करके देखे.और फिर धीमे धीमे अपनी पोजीशन को बढाते हुए अच्छा लाभ कमाए..

ध्यान देने वाली बात ये है कि – जब कोई कंपनी बहुत अच्छा प्रॉफिट लगातार कमा रही है..तभी वो बोनस शेयर जारी करती है या फिर स्टॉक स्प्लिट करती है और ऐसे में बोनस शेयर और स्टॉक स्प्लिट से लॉन्ग टर्म में बहुत ज्यादा फायदा होता है

चुकी हजारों आर्डर हर सेकंड होने के कारण कंपनी का मार्केट price भी हर सेकंड बदलता रहता है, और उसी वजह से आपको शेयर का price हर सेकंड बदलते हुए दिखता है.

DERIVATIVE  यानि फ्यूचर और आप्शन की ट्रेडिंग EQUITY MARKET , CURRENCY MARKET और कमोडिटी मार्केट में होता है.

क्रिप्टोकरेंसी में स्टार्ट ट्रेडिंग

एक टिप्पणी छोड़ें